साहित्यकार स्व. सर्वज्ञ शेखर गुप्ता की पुस्तक “मेरे इक्यावन अभिमत” का विमोचन

साहित्यकार स्व. सर्वज्ञ शेखर गुप्ता की पुस्तक “मेरे इक्यावन अभिमत” का विमोचन उत्तराखंड की महामहिम राज्यपाल श्रीमती बेबीरानी मौर्य जी ने किया.. विमोचन समारोह (वर्चुअल) समारोह की कुछ झलकियाँ Media Coverage

भूल न जाना होली की ठिठोली में

रंगों की उड़ेगी बौछारघूमेंगे हुरियारी टोली मेंअबीर गुलाल की होगी बहारहोली की मस्त ठिठोली मेंभीगेंगे पानी में हमसबरंग बरसेगा चोली में गले मिलना शिकवे मिटानाभूल न जानाहोली की ठिठोली में खूनी होली खेल रहेआतंकी पड़ोस से आ केशहीद हो रहे सपूत भारत माँ केछाती पर गोली खा केतोप चलाओ मिसाइल दागोकुछ नहीं रखा वार्ता बोली में लेना है भीषण बदला उनसेभूल न जानाहोली की ठिठोली में जो भी दीखे लाचारगरीब

सुप्रसिद्ध साहित्यकार डॉ. उषा यादव को पद्मश्री

आगरा की गौरव, सुप्रसिद्ध साहित्यकार डॉ. उषा यादव को पद्मश्री अवार्ड के लिए चयन होने पर आज संस्थान संगम पत्रिका की ओर से उनका अभिनंदन किया गया। पत्रिका की समन्वयक डॉ शशि गोयल, संपादक डॉ अशोक अश्रु, कार्यकारी संपादक सर्वज्ञ शेखर ने डॉ उषा यादव के आवास पर उनको पुष्पगुच्छ, मणि माला व अंगवस्त्र से सम्मानित किया।डॉ यादव ने संस्थान संगम परिवार के प्रति आभार प्रकट किया व धन्यवाद स्वरूप

संपूर्ण देश करबद्ध आपका करता है सादर अभिनंदन

लॉकडाउन का करो पालनसतर्क रहो और सावधान,राष्ट्ररक्षकों का भी करना हैहम सब को पूरा सम्मान।हे राष्ट्ररक्षको राष्ट्रवीरो!आपकी कर्तव्यनिष्ठा को नमन,आप सजग हो, आप जागृत होतभी सुरक्षित है जन-जन।कोरोना के विरुद्ध युद्ध मेंसबसे आगे आप खड़े होसंपूर्ण देश करबद्ध आपकाकरता है सादर अभिनंदन।कोरोना का असर है जब तकघूमो न फिरो स्वच्छंद,नमस्ते करो करबद्ध हो करहाथ मिलाना कर दो बंद।मेड इन चाइना बीमारी हैज्यादा नहीं चलेगी,गले मिलना छोड़ दो तोगले नहीं पड़ेगी।सही

धूमधाम से मनाया गया करुणेश स्मृति होली मिलन समारोह: छह विभूतियों का हुआ सम्मान

आगरा। उत्तरप्रदेश सरकार के मंत्री माननीय चौधरी उदयभान सिंह जी, लोकप्रिय सांसद प्रो.एस पी सिंह बघेल व जनप्रिय विधायक पुरुषोत्तम खंडेलवाल की गरिमामयी उपस्थिति में आज स्वाधीनता सेनानी, साहित्यकार,पत्रकार रोशनलाल गुप्त करुणेश स्मृति होलीमिलन समारोह धूमधाम से सम्पन्न हुआ। वक्ताओं ने करुणेश जी के नेतृत्व में हुए हार्डी बमकांड व राष्ट्रीय आंदोलन में उनकी भूमिका को याद करके उन्हें नमन किया व युवा पीढी से उनके दिखाए मार्ग पर चलने

ताज रंग महोत्सव

ताज रंग महोत्सव का 5 फरवरी को यूथ होस्टल में रंगारंग समापन हुआ। अंतिम दिन का आकर्षण रहा स्वाधीनता संग्राम सेनानी रोशनलाल गुप्त करुणेश जी की धर्मपत्नी,हमारी पूज्य माँ स्व. रामलता गुप्ता की स्मृति में 11 विदुषी महिलाओं का सम्मान। मनकामेश्वर मंदिर के महंत योगेश पुरी जी महाराज, शिक्षाविद डॉ महेश शर्मा, प्रीति उपाध्याय, नटरांजलि की निर्देशक अलका सिंह ने कला, संस्कृति, साहित्य, आध्यात्म आदि क्षेत्रों में ख्यातिप्राप्त महिलाओं को

करुणेश जी की स्मृति सहेजेगा दिल्ली का नेहरू मेमोरियल म्यूजियम

आगरा। स्वाधीनता संग्राम सेनानी रोशनलाल गुप्त करुणेश की स्मृतियों को दिल्ली का नेहरू मेमोरियल म्यूजियम सहेजेगा। नेहरु स्मारक संग्रहालय एवं पुस्तकालय (Nehru Memorial Museum & Library (NMML)) नयी दिल्ली स्थित एक संग्रहालय एवं पुस्तकालय है। यह तीन मूर्ति भवन के प्रांगण में स्थित है। इसकी स्थापना 1964 में जवाहरलाल नेहरू के देहान्त के उपरान्त की गई। यह भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय के अन्तर्गत एक स्वायत्त संस्था है।इसका लक्ष्य है

लीडर्स अवार्ड्स समारोह

प्रसिद्ध स्वाधीनता संग्राम सेनानी व मेरे पूज्य पिता रोशनलाल गुप्त “करुणेश” की स्मृति में 8वें लीडर्स अवार्ड्स समारोह में राष्ट्रप्रेम व वीरता पुरस्कार प्रदान किया गया। यह पुरस्कार अजितनगर चौराहा बाजार कमेटी के अध्यक्ष श्री राजेश यादव को दिया गया। इस समिति ने आंधी, तूफान, वारिश की परवाह किए बिना प्रतिदिन सुबह तिरंगे झंडे का ध्वजारोहण करने का कीर्तिमान कायम किया है। नगर का प्रमुख कार्यक्रम 8 वाँ भव्य, गरिमामय

करुणेश परिवार के लिए गौरवशाली क्षण

आगरा के अजितनगर, खेरियामोड़ पर बाजार कमेटी द्वारा प्रतिदिन पूरे अनुशासन व मानक के साथ ध्वजारोहण किया जाता है। आज इस पुनीत अवसर पर मुझे मुख्य अतिथि के रूपमें राष्ट्रीय ध्वज फहराने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। मेरे भ्रातागण संजय गुप्त (अवकाश प्राप्त बैंकर), आदर्श नन्दन गुप्त (वरिष्ठ उपसंपादक-दैनिक जागरण) व अन्य परिजन भी इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित थे। पूज्य पिताश्री, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, साहित्यकार, पत्रकार